BREAKING NEWS
»विजडम ट्री स्कूल में बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम से समां बांधा »जन्माष्टमी 2019: कल कई सड़कों पर रूट डायवर्जन »एसटीएफ की टीम ने गैंगस्टरों को अवैध हथियार सप्लाई करने वाले सप्लायर को किया गिरफ्तार »नोएडा प्राधिकरण ने 36 अवैध दुकानें की सीज »नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने जन्माष्टमी के दृष्टिगत विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण किया
Tuesday, Dec 10,2019
--Advertisement--

अमेरिका से नहीं डरा भारत, विरोध के बाद भी रूस से खरीदेगा 40 हजार करोड़ की मिसाइलें

Monday, 03 September 2018, 11:08:00 AM : www.dainikgrenoexpress.com

नई दिल्ली: भारत आगामी टू प्लस टू वार्ता के दौरान अमेरिका को अवगत करा सकता है कि वह मॉस्को के साथ सैन्य आदान-प्रदान पर अमेरिकी प्रतिबंध के बावजूद एस-400 ट्रायम्फ हवाई रक्षा मिसाइल तंत्र का बेड़ा खरीदने के लिए रूस के साथ 40,000 करोड़ रुपए के सौदे पर आगे बढ़ रहा है. आधिकारिक सूत्रों ने रविवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि भारत क्षेत्रीय सुरक्षा की पृष्ठभूमि के साथ ही रूस के साथ अपने करीबी रक्षा सहयोग के मद्देनजर मिसाइल प्रणाली को लेकर अपनी जरूरतों का हवाला देते हुए इस बड़े सौदे के लिए ट्रंप प्रशासन से छूट की मांग कर सकता है. उच्च स्तर के एक आधिकारिक सूत्र ने बताया, ‘‘भारत रूस के साथ एस- 400 मिसाइल के सौदे को तकरीबन संपन्न कर चुका है और हम इस पर आगे बढ़ रहे हैं. मुद्दे पर अपने पक्ष से अमेरिका को अवगत कराया जाएगा.’’ अमेरिका ने क्रीमिया पर कब्जे और साल 2016 में अमेरिकी राष्ट्रपति के चुनाव में कथित दखल के लिए सख्त सीएएटीएसए कानून के तहत रूस के खिलाफ सैन्य प्रतिबंध लगा रखा है. सीएएटीएसए के तहत डोनाल्ड ट्रंप प्रशासन को रूस के रक्षा या खुफिया प्रतिष्ठान के साथ महत्वपूर्ण लेन-देन में संलिप्त देश और संस्था को दंडित करने का अधिकार मिला हुआ है. एशिया मामले को देखने वाले पेंटागन के वरिष्ठ अधिकारी रेंडाल स्क्रीवर ने गुरूवार को कहा कि अमेरिका इसकी गारंटी नहीं दे सकता कि रूस से हथियार और रक्षा तंत्र की खरीदारी करने पर भारत को छूट दी जाएगी. अमेरिका संकेत देता रहा है कि वह नहीं चाहता है कि भारत रूस के साथ सौदे को अंतिम रूप दे.

 
Copyright © 2016 All rights reserved by : Greno Express
Powered by : FlagBits Technologies