BREAKING NEWS
»विजडम ट्री स्कूल में बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम से समां बांधा »जन्माष्टमी 2019: कल कई सड़कों पर रूट डायवर्जन »एसटीएफ की टीम ने गैंगस्टरों को अवैध हथियार सप्लाई करने वाले सप्लायर को किया गिरफ्तार »नोएडा प्राधिकरण ने 36 अवैध दुकानें की सीज »नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने जन्माष्टमी के दृष्टिगत विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण किया
Sunday, Oct 20,2019
--Advertisement--

'गोल्डन शनिवार', विनेश फोगाट ने जीता गोल्ड, भारत को एक दिन में 6 स्वर्ण

Saturday, 14 April 2018, 12:02:00 PM : www.dainikgrenoexpress.com

गोल्ट कोस्ट (आस्ट्रेलिया) : 21वें कॉमनवेल्थ गेम्स के 10वें दिन भारत के लिए गोल्ड मेडल की बरसात हुई. विनेश फोगाट ने भारत को दिन का छठा गोल्ड दिलाया. एक दिन में ये भारत का छठा गोल्ड मेडल है. इस कॉमनवेल्थ गेम्स में इतने गोल्ड मेडल एक दिन में भारत को कभी नहीं मिले. हालांकि उनकी बहन बबीता फोगाट इन खेलों में गोल्ड नहीं जीत पाई थीं, लेकिन विनेश ने उनकी इस कमी को पूरा कर दिया. विनेश फोगाट ने 10वें दिन महिलाओं की फ्री स्टाइल कुश्ती की 50 किलोग्राम भारवर्ग में स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया. विनेश ने कनाडा की जेसिका मैक्डोनाल्ड को 13-3 से मात देते हुए स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया.विनेश ने आते ही जेसिका को कब्जे में लिया और पटखनी देते हुए चार अंक हासिल किए. उन्होंने अगले दांव में भी चार अंक लिए. इस बीच जेसिका ने भी दो तीन अंक लिए, लेकिन विनेश ने अपने अंकों के अंतर को बनाए रखा और अंतर को 10 तक पहुंचा दिया. इस बीच जेसिका के कोच ने चैंलेज किया और विनेश की 10 अंकों की बढ़त को कम कर दिया. हालांकि दूसरे राउंड में विनेश ने अंकों के अंतर को एक बार फिर 10 तक पहुंचा दिया और यहीं रेफरी ने विनेश को तकनीकी तौर पर विजेता घोषित कर दिया.इससे पहले भारत के लिए शनिवार को मैरी कॉम, संजीव राजपूत, सुमित मलिक, गौरव सोलंकी ने देश को गोल्ड मेडल दिलाए. इसके अलावा गौरव चोपड़ा ने भारत को पहली बार जेवलिन थ्रो में गोल्ड दिलाया था. इसके बाद विनेश फोगाट ने दिन का छठा गोल्ड दिलायाकुश्ती में भारत को अब तक खिलाड़ियों ने 5 गोल्ड मेडल दिलाए हैं. सबसे ज्यादा गोल्ड की बात की जाए तो इस बार भारत को सबसे ज्यादा गोल्ड निशानेबाजी में मिले हैं. निशानेबाजी में 7 गोल्ड भारत ने जीते हैं.

 
Copyright © 2016 All rights reserved by : Greno Express
Powered by : FlagBits Technologies